शादी के 9 साल बाद पता चला औरत “पुरुष” है, 30 साल गुजारी औरत की जिंदगी

280

आमतौर पर हमारे समाज में शारीरिक बनावट को देखकर महिला और पुरुष में अंतर किया जाता है. लेकिन कई बार जेनेटिक बदलाव को बाहरी स्तर पर पकड़ना आसान काम नहीं है. ऐसा ही एक मामला पश्चिम बंगाल से सामने आया हैं, जहां एक पुरुष पिछले 30 वर्ष से सामान्य औरत की तरह जिंदगी जी रहा था. लेकिन जब उसे पता चला कि वह मर्द है तो उसके पैरों तले से जमीन खिसक गई. दरअसल पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में रहने वाली एक 30 वर्षीय महिला को नाभि के नीचे दर्द हुआ.
महिला को इलाज के लिए कोलकाता स्थित नेताजी सुभाष चंद्र बोस कैंसर हॉस्पिटल ले जाया गया. जहां डॉक्टरों ने पीड़ित महिला की जाँच की तो पाया की वह महिला नहीं बल्कि पुरुष हैं.

क्लीनिकल ऑंकोलॉजिस्ट डॉ. अनुपम दत्ता ने कहा कि उसकी नाभि के नीचे एक छोटा ट्यूमर मिला हैं. जिसकी बायोप्सी जांच में कैंसर का पता चला हैं. डॉक्टर ने बताया की उसके टेस्टिकुलर (अंडकोष) में कैंसर हो गया था. डॉक्टरों ने बताया कि आमतौर पर सभी पुरुषों का अंडकोष शरीर के बाहर होता हैं लेकिन, उसका टेस्टिकुलर (अंडकोष) शरीर के बाहर न रहकर अंदर ही विकसित हो गया था. डॉक्टर ने बताया कि वह ट्यूमर ही अंडकोष था. आपको बता दें कि लगभग 30 वर्षीय व्यक्ति देखने में पूरी तरह से महिला की तरह है. उसकी आवाज, शरीर का बनावट, शरीर का विकास व अन्य सभी अंग महिलाओं की तरह ही नजर आते हैं. उसके शरीर में जन्म से ही गर्भाशय और अंडाशय नहीं है तथा उसे कभी माहवारी भी नहीं हुई थी.

हालांकि उसकी योनि है लेकिन उसे मेडिकल भाषा में ब्लाइंड एंडेड वैजाइना कहा जाता हैं (जोकी शुरू होने के साथ ही खत्म हो जाती हैं). डॉक्टरों ने बताया कि यह बहुत ही दुर्लभ स्थिति है और यह स्थिति 22,000 लोगों में से 1 में पाई जाती है. इसको लेकर एक और चौका देने वाली खबर सामने आयी हैं जिसमें उक्त महिला की 28 वर्षीय बहन की जांच में भी यही स्थिति सामने आई है. जिसमें व्यक्ति जेनेटिकली पुरुष होता है लेकिन उसके शरीर के सभी अंग और बनावट महिला जैसे होते हैं. डॉ दत्ता ने कहा कि उक्त महिला की कीमोथेरेपी की जा रही है और उसकी हालत गंभीर है।

Previous articleक्या मुस्लिम विशेषज्ञों ने लगवाई हैं रामदेव की कोरोनिल दवा पर रोक ? – जानिए सच
Next articleरेलवे ने निकाली 2792 पदों पर भर्तियाँ, परीक्षा के बिना हो रहा हैं चयन – ऐसे करें आवेदन