लॉकडाउन में बंद थी सभी दुकानें – तो भाजपाई कहाँ से लाए टेंट और पोस्टर ?

233

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए पूरे हरियाणा में लॉकडाउन लगाया गया हैं। धारा 144 लागू हैं लेकिन कल 5 मई को भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं पर हो रही हिंसा को लेकर धरना दिया गया। लोकतंत्र में सभी नागरिकों को अपनी आवाज़ रखने का अधिकार हैं, लेकिन अपनी आवाज़ उठाने के लिए क़ानून की धज्जियाँ उड़ाना कितना सही हैं ?

कहाँ से आए फ़्लेक्स और टेंट

जैसा की सब जानते हैं तो हरियाणा में लॉकडाउन लगाया गया हैं। जिसके साथ-साथ धारा 144 भी लगाई गयी हैं। लॉकडाउन में Non Essential चीजें (आसान भाषा में यह वह चीज़ होती हैं जिसके बिना इंसान रह सकता हैं Non Essential का अर्थ हैं गैर जरुरी) की दुकानें सरकार द्वारा बंद करवाई गयी हैं। और Essential (इसमें सभी प्रकार का खाने या सामान, दवाइयाँ इत्यादि आते हैं) सामान की दुकानें खोलने की छूट दी गयी हैं।

अब सवाल आया की जब किराने, सब्ज़ियाँ और स्वास्थ्य सेवाएँ ही खोलने की अनुमति सरकार द्वारा दी गयी हैं तो भाजपा के कार्यकर्ता व नेता सम्पूर्ण लॉकडाउन के दौरान फ़्लेक्स और टेंट कहाँ से लाए। धारा 144 लागू होने के बाद भी एक जगह पर 4 से ज़्यादा लोग इकट्ठे हुए क्या प्रशासन द्वारा किसी के ख़िलाफ़ कोई मामला दर्ज किया गया ?

पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं और लोकतंत्र की हत्या के विरोध में आज प्रदेश अध्यक्ष श्री Om Prakash Dhankar जी के…

Posted by BJP Haryana on Wednesday, 5 May 2021

Previous articleओलंपिक पदक विजेता सुशील पर FIR – घर पर पुलिस की छापेमारी
Next articleबाजार में बिक रही नकली कोरोना दवा – ऐसे करें पहचान