हरियाणा के किसानों को मिलेगा बिना ब्याज 3 लाख रुपये तक का कृषि लोन

190

हमारा प्रदेश कृषक प्रधान देश है, जो कि दिन-रात मेहनत करके हमारे लिए अन्न पैदा करते हैं। कृषकों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हरियाणा सरकार ने किसानों को 3 लाख रूपये तक का ऋण मुक्त लोन देने की योजना बनाई है। इससे किसानों की आय में भी इजाफा होगा और हमारे प्रदेश की किसानों की काफी मुश्किलें भी आसान हो जाएंगी। संभवतः हरियाणा राज्य में ही यह एक ऐसी पहली स्कीम होगी, जो कि किसानों को बिना ब्याज के ऋण प्रदान करेगी।

प्रदेश के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि किसानों द्वारा बैंक से लोन लेने पर आमतौर पर 7 प्रतिशत तक या इससे ज्यादा के ब्याज दर पर लोन लेना पड़ता है। जिसे अब हमारी सरकार जीरो ब्याज दर पर उपलब्ध करवाएगी। दलाल ने कहा है कि 7 प्रतिशत ब्याज दर के फसली ऋण में भी 3 प्रतिशत ब्याज का वहन केन्द्र सरकार और शेष 4 प्रतिशत ब्याज प्रदेश सरकार करेगी। आगे उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी जमीन की उपयोगिता व आय के अनुसार वित्त प्रबंधन किस प्रकार से किया जाए, इसके लिए भी मनोहर सरकार ने 17,000 किसान मित्र लगाने का फैसला लिया है। जो कि कृषकों को वॉलंटियर्स के रूप में अपनी सेवाएं प्रदान करेंगे।

इसके साथ-साथ केन्द्र सरकार ने हाल ही में घोषित आत्मनिर्भर भारत के तहत 20 लाख करोड़ रूपये के आर्थिक पैकेज में एक लाख करोड़ रूपये किसानों को देखते हुए कृषि इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए रखा गया है। जिसमें 3900 करोड़ रूपये हरियाणा के लिए निर्धारित किए गए हैं। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री का कहना है कि केन्द्र और राज्य सरकार की सभी तरह की पहल कृषि हित को ध्यान में रखते हुए शुरू की गई हैं। अगर किसान लोगों को न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक दाम मंडियों से बाहर मिलता है तो वह अपनी फसल को बेच सकता है। फिर भी प्रदेश सरकार न्यूनतम मूल्यों पर तो खरीदेगी ही। साथ ही किसानों को पशुपालन व्यवसाय से भी आय बढ़ाने का मौका मिलता है, जिसके लिए किसान क्रेडिट कार्ड पर पशु क्रेडिट कार्ड योजना लागू की गई है। जिसका लाभ अब तक लगभग 1,40,000 पशुपालकों को लाभ मिला है।

Previous articleहरियाणा की नदियाँ उफान पर – आसपास के इलाकों में बाढ़ की आशंका
Next articleहरियाणा में बंद होंगे सभी बूचड़खाने – बन्द करने के जारी हुए निर्देश