हरियाणा का गब्बर फिल्मी दुनिया से अलग हैं

251

संसार क्रान्ति (नवीन नरवाना): फिल्मी दुनिया में गब्बर को एक चोर-डाकू या गुंडे के रूप में दिखाया गया हैं जिसका खौफ पूरे इलाके में होता हैं। लेकिन हरियाणा में भी एक मंत्री हैं जिसे गब्बर कहा जाता हैं, यह गब्बर फिल्मी दुनिया से विपरीत हैं। हम बात कर रहें हैं अनिल विज की जिनका जन्म 15 मार्च 1953 को अंबाला पंजाब में हुआ था। अंबाला पंजाब इसलिए क्योंकि उस समय पंजाब और हरियाणा एक की राज्य था।

6 बार रह चुके हैं विधायक

राजनीति का भी एक सिस्टम होता हैं जिसे आम भाषा में सीढ़ी बोल सकते हैं। अनिल विज 6 बार अंबाला कैंट से विधायक रह चुके हैं। उनके अपने कड़क अन्दाज के कारण उन्हें गब्बर कहा जाता हैं। पिछली सरकार में विज स्वास्थ्य व खेल मंत्री रह चुके हैं। अबकि बार भी ANIL VIJ अंबाला कैंट से भाजपा विधायक हैं और हरियाणा सरकार में गृहमंत्री हैं। विज का राजनीति में आगमन छात्र संघ ABVP द्वारा हुआ था, अंबाला कैंट में स्थित एसडी कॉलेज में पढ़ाई के दौरान अनिल विज छात्र संघ ABVP का हिस्सा बन गये थे। विज छात्र संघ में इतने सक्रिय हुए की उन्हें सन 1970 में ABVP का महासचिव बना दिया गया था।

पहली बार विधायक बने

जब 1990 में सुषमा स्वराज राज्यसभा की सदस्य चुनी गयी, जिसके बाद अंबाला कैंट की विधायक सीट खाली हो गयी। सीट खाली होनें के बाद अनिल विज नें चुनाव लड़ने का निर्णय लिया। जिसमें अनिल विज नें चुनाव लड़ा, आपको बता दें कि इस चुनाव के लिए विज नें SBI की नौकरी तक छोड़ दी थी। विज का भाग्य नें भी साथ दिया जिससे वह पहली बार विधायक बनें व विधानसभा पहुँचे। 1996 और 2000 में अनिल विज नें अंबाला कैंट से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन दर्ज किया व निर्दलीय चुनाव लड़ा, जिसमें विज को जीत मिली। 2005 में हुए विधानसभा चुनावों में विज को हार का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद 2009 के विधानसभा चुनावों में अनिल विज नें जीत दर्ज की थी। विज 2014 और 2019 में भी अंबाला से विधायक बनें।

Previous articleगणतंत्र दिवस पर आपस में लड़ पड़े कांग्रेस नेता
Next articleसावधान: कुरुक्षेत्र में पीलिया का कहर, सामने आए 70 मामले