पंजाबी गानों को कड़ी टक्कर दे रहें हैं हरियाणवी गीत

233

(नवीन नरवाना): पंजाब म्यूज़िक इंडस्ट्री बॉलीवुड तक जा चुकी हैं तो हरियाणवी इंडस्ट्री भी कुछ कम नहीं हैं. हरियाणा के यशपाल शर्मा से लेकर रणदीप हुड्डा तक कई लोग बॉलीवुड से हॉलीवुड तक हरियाणवी छाप छोड़ रहें हैं.

करोड़ों लोगों ने देखे ये हरियाणवी गाने

  1. बहु काले की: गाना आजतक 47 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके सिंगर हैं गजेंद्र फौगाट और अनु कादयान. गाने को अजय हुड्डा ने लिखा हैं. यूटूब पर इस गाने के 473M व्यूज हैं.
  2. सैंडल: यह गाना भी 47 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके सिंगर राजू पंजाबी हैं और समुंदर सिंह ने यह गाना लिखा हैं.
  3. तागड़ी: गाने को 45 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके सिंगर गगन और अनु कादयान हैं. गाने को अजय हुड्डा ने लिखा हैं.
  4. लाड़ पिया के: यह गाना 32 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके गायक राजू पंजाबी व सुशीला ठाकर है. गाने को बिंदर दनौदा ने लिखा हैं.
  5. मोटो (Moto): 2020 में रिलीज हुए मोटो गाने को 27 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके सिंगर दलेर खरकिया हैं. गाने को अजय हुड्डा नें लिखा हैं.
  6. गजबण पानी नै चाली: यह गाना 20 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसे विश्वजीत चौधरी ने गाया हैं और मुकेश जाजी द्वारा लिखा गया हैं. यह गाना 2020 में सबसे ज़्यादा हिट हुआ सोंग हैं. भले ही यूटूब पर इसके व्यूज कम हैं लेकिन यह हर शादी-विवाह के मौक़े पर चलाया गया हैं.
  7. इंग्लिश मीडीयम: गाने को 22 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके सिंगर मासूम शर्मा व अनु कादयान हैं.
  8. जुग-जुग जीवे: गाने को 20 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके लिखक व गीतकार गुलज़ार छानीवाला हैं.
  9. यार की शादी: सुमित गोस्वामी का यह गाना 12 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं.
  10. Z-Black: इस गाने को 10 करोड़ लोगों द्वारा देखा गया हैं. इसके लेखक और गायक MD और KD हैं. जब तक इन दोनों ने जोड़ी में रहकर काम किया तब तक हरियाणा में इन्हें टॉप माना जाता हैं. लेकिन आपस में खटास आने के बाद जनता का टेस्ट भी बदल सा गया हैं.

ये हरियाणवी गाने 10 करोड़ से ज़्यादा लोगों ने देखे हैं. हरियाणवी म्यूज़िक इंडस्ट्री आजकल अच्छे काम के साथ आगे आ रही हैं. कुछ ऐसे कलंकार भी हैं जो फूहड़ता को फैलाने में लगे हुए हैं.

Previous articleUP के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता का निधन
Next articleRSS की कुटुंब शाखा में शामिल हुए 50 लाख परिवार