लॉकडाउन में भी प्रेमियों का प्यार नहीं हो रहा लॉक, कोर्ट में आ रहें हैं 20% से अधिक केस

157

जहाँ एक तरफ देशभर में कोरोना से बचने के लिए सरकार लॉकडाउन व सुरक्षा नियम बना रही है. वहीँ दूसरी और पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में हर रोज़ दो दर्जन से अधिक प्रेमी जोड़े अपनी सुरक्षा की मांग को लेकर सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं.

हालाँकि लॉकडाउन के चलते हाई-कोर्ट की सुनवाई भी विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से की जा रही है. लेकिन इसके बावजूद भी प्रतिदिन 100-120 मामलों की सुनवाई की जा रही है. इनमे से एक चौथाई केस प्रेमी जोड़ों के हैं जो अपने परिजनों से जान का खतरा बता कर हाई कोर्ट से सुरक्षा की मांग कर रहे हैं. कोर्ट इन मामलों में जिला पुलिस अधिकारी या SHO को निर्देश जारी कर रहा है.

जहाँ कोरोना की महामारी के कारण विवाह शादियाँ और व्यापार ठप पड़े हैं, वहीँ दूसरी तरफ प्रेमी जोड़ों को कोई भी नियम लॉक नहीं कर पा रहा है. हाल ही में जारी की एक रिपोर्ट के अनुसार हाईकोर्ट में रोजाना एक हज़ार से अधिक केसों की सुनवाई हो रही है लेकिन इनमे से 10 प्रतिशत मामले प्रेमी जोड़ों से संबंधित होते हैं. ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि प्यार को कोई भी लॉकडाउन बाँध कर नहीं रख सकता.

Previous articleप्राइवेट स्कूलों की मनमानी पर बोले शिक्षा मंत्री – स्कूल नहीं बदल सकेंगे पुस्तकें व वर्दी
Next articleकोरोना के मामले पहुँचे 1300 के पार – 26 मई की ताजा रिपोर्ट