अब “रोबोट” करेगा कोरोना मरीजों की सेवा, इस नागरिक अस्पताल को दिया जायेगा यह रोबोट

170

(नवीन नरवाना): हरियाणा के अलावा देश के सभी राज्यों में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढती देखने को मिल रही है. ऐसे में इस वायरस के खतरनाक संक्रमण से बचने के लिए नया कदम उठाया जा रहा है. राज्य के कुछ नागरिक अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों के खान-पान और दवा-दारु के लिए अब सरकार द्वारा यह जिम्मा रोबोट को दिया जा रहा है. यह रोबोट एक ख़ास तरीके से तैयार किया गया है जोकि अस्पताल में सभी आवश्यक चीज़ों को स्टाफ और मरीजों तक पहुँचाने में काफी मददगार साबित होगा.

बता दें कि फिलहाल टेस्टिंग के लोए गुड़गांव के नागरिक अस्पताल को चुना गया है. वहां इस रोबोट के ज़रिये सभी कोरोना मरीजों तक खाना एवं दवाइयां पहुंचाई जा सकेंगी. इसके लिए बुधवार को रोबोट का ट्रायल भी ले लिया गया है. अस्पताल प्रबंधन के अनुसार कोरोना के खतरे से स्टाफ और डॉक्टर्स को बचाने के लिए यह रोबोट एक बड़ी कामयाबी साबित होगी. इससे पहले वायरस से पीड़ित लोगों के वार्ड में खुद अस्पताल के स्टाफ को जाना पड़ता था जिसके कारण उनके सिर पर भी खतरे के बादल मंडराते थे. ऐसे में अब यह सभी काम रोबोट किया करेगा. जिस भी मरीज को किसी चीज़ की आवश्यकता होगी, वह चीज़ रोबोट की मदद से उस तक पहुंचाई जाएगी. इसके लिए अब हॉस्पिटल स्टाफ को अपनी जान जोखिम में डाल कर आइसोलेशन वार्ड में नहीं जाना पड़ेगा.

मिली जानकारी के अनुसार इस बुधवार को रोबोट का ट्रायल लोया गया था जिसके बाद यह बात साफ़ की गई है कि अब इस रोबोट को जल्द ही उपयोग में लाया जा सकेगा. यह रोबोट एक साथ अनेकों काम करने में सक्षम है. इतना ही नहीं बल्कि इस रोबोट को हम एक ही बार में चार से पांच कमांड एक साथ दे सकते हैं. इसको लेजर तकनीक से तैयार किया गया है. जिस भी अस्पताल में रोबोट को रखा जायेगा, वहां इसको इंस्टाल करने के लिए वहां के नक़्शे और प्रोग्राम को सेट किया जायेगा. जिसके बाद जरूरी कमांड से इसका उपयोग किया जा सकेगा. इस रोबोट में मरीज का बेड नंबर दर्ज करने का आप्शन दिया गया है, ताकि वह रोबोट उस मरीज के बेड तक आसानी से पहुँच कर उसकी मदद कर पाए. यदि इस दौरान रोबोट के सामने किसी तरह की कोई दिक्कत आती है तो उसमे लगाये गये साईरन बजने लगेंगे. और यदि रोबोट के सामने वह अड़चन नहीं हट पाती तो उसकी जगह दुसरे रोबोट को कमांड फॉरवर्ड कर दी जाएगी.

इस रोबोट को हाईटेक रोबोटिक्स कंपनी द्वारा बनाया गया है और फिलहाल इसे गुड़गांव के सेक्टर 10 नागरिक अस्पताल में उपलब्ध करवाया गया है. बता दें कि इससे पहले यह कंपनी रोबोट को आईटीबीपी और झज्जर के एम्स में उपलब्ध करवा चुकी है.

Previous articleBreaking News: रोहतक से दिल्ली तक चलेगी ट्रेन – मगर सिर्फ इनके लिए
Next articleलॉकडाउन के दौरान निजी स्कूल लेंगे ट्यूशन फीस