आज के दिन “शहीद” हुए थे हमारे 44 जवान

199

संसार क्रान्ति (नवीन नरवाना): पिछले साल आज ही के दिन हमारा देश ने 44 जवान खोए थे. 14 फरवरी को लोग जब वेलेंटाइन-डे मना रहें थे तब पुलवामा में हमारे 40 से ज़्यादा जवान शहीद हो गये थे. पुलवामा ह’मले से पूरा भारत मायूस हो गया था. यह हम’ला जैश-ए-मोहम्मद नाम के एक आ’तंकी संगठन द्वारा करवाया गया था. आज पूरा भारत वेलेंटाइन-डें की जगह शहीदी दिवस मना राहा हैं. भारत में जगह-जगह ब्लड डोनेशन कैम्प लगाए जाएँगे व शहीदों को याद किया जाएगा.

अब पुलवामा ह’मले में एक नया मोड़ आया हैं. एक न्यूज पेपर की एक रिपोर्ट के अनुसार जम्मू-कश्मीर में पुलवामा जिले के पुलिस अधीक्षक ने हरियाणा के फतेहाबाद जिला प्रशासन को एक पत्र लिखा हैं। बताया जा रहा हैं की इस पत्र में पुलवामा पुलिस नें फतेहाबाद प्रशासन से एक गाड़ी की जानकारी माँगी हैं। अगर सूत्रों की माने तो पिछले साल हुए पुलवामा ह’मले के सम्बंध में यह जानकारी माँगी गयी हैं। फतेहाबाद पुलिस के अधिकारियों नें पुलवामा पुलिस द्वारा माँगी गयी सभी जानकारी व रिपोर्ट उन्हें भेज दी हैं।

पूरा मामला

जैश-ए-मोहम्मद द्वारा CRPF के 40 जवानो को शहीद किया गया था। इस घटना के कुछ दिन बाद एक गाड़ी में विस्पो’ट हुआ था। उस विस्पो’ट में किसी के प्राण तो नहीं गये लेकिन वहाँ धमा’के के बाद एक नम्बर प्लेट सामने आयी थी जोकी हरियाणा के नम्बर की थी नम्बर प्लेट पर HR22P1691 नम्बर था। गाड़ी के मालिक का नाम अंकित बताया जा रहा हैं। हालाँकि स्थानीय अधिकारियों नें इसकी पुष्टि नहीं की हैं।

पुलिस प्रशासन ने बताया की

जानकारी के अनुसार फतेहाबाद पुलिस नें बताया की जम्मू-कश्मीर के पुलवामा पुलिस द्वारा उनसे पत्र लिख यह पूछा गया था की यह HR22P1691 नंबर की गाड़ी किसके नाम पर रजिस्टर हैं। फतेहाबाद पुलिस अधिकारियों के मुताबिक HR22P1691 नम्बर की गाड़ी मारुति कम्पनी की हैं जिसका माडल विटारा ब्रेजा VDI हैं। जोकी हरियाणा के भट्टू गाँव से

मागी गई ये जानकारी

पुलवामा के पुलिस अधीक्षक ने एसडीएम फतेहाबाद को पत्र लिखकर पूछा है कि उक्त गाड़ी किसके नाम पर रजिस्टर्ड है। अधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि यह मारुति विटारा ब्रेजा वीडीआई मॉडल कार है।इस गाड़ी को दिनांक 7 जुलाई 2016 को खरीदा गया था। इसे शक्ति मोटर्स नामक एजेन्सी से ख़रीदा गया था, कार का मालिक भट्टू से हैं। जनवरी में गाड़ी मालिक नें कार को सिरसा के गाँव गुड़िया में एक व्यक्ति को बेच दिया था। नया मोड़ यह हैं की कार के नए मालिक नें फतेहाबाद से NOC लेकर यह नम्बर जमा करवा दिया था व सिरसे जिले का नया नम्बर ले किया था.

Previous articlePM मोदी की SPG सुरक्षा का रोजाना खर्च 1 करोड़ 62 लाख है
Next articleसरकारी नौकरी: HSSC की 1137 भर्तियाँ