रिटायर्ड कर्नल ने कहा – पहले चेतावनी दो, अगर बाहर नहीं आते तो घर को उड़ा दो

137

(Naveen Narwana): जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में भारतीय सेना के 4 जवान और J&K पुलिस के एक SI की शहादत पर देश के पूर्व सैन्यकर्मियों का कहना है कि कश्मीर में आतंकी हमलों से निपटने की रणनीति में बदलाव करना बहुत जरूरी है. सेना को राजनीति से दूर रखकर कार्रवाई करने की आवश्यकता है.

इस बारे में रिटायर्ड कर्नल VK साही ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि यदि कोई आतंकी किसी के घर में पनाह लिए हुए है या उसने लोगों को बंधी बनाकर रखा है. इस स्थिति में सबसे पहले वहां मौजूद लोगों को चेतावनी देकर बाहर आने के लिए कहा जाए. अगर ऐसा नहीं होता है तो उस जगह को विस्फोट से उड़ा देना चाहिए. कर्नल ने कहा कि इसी से आतंकियों को पनाह मिलना बंद होगा.

कर्नल VK ने सवाल किया कि आखिर कब तक लोगों को बंधक बनाने के नाम पर आतंकियों को पनाह मिलती रहेगी और इनको बचाने के नाम पर हमारे जवान शहीद होते रहेंगे? कर्नल ने न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि कश्मीर में आतंकियों को स्थानीय स्तर पर पनाह मिलती है. जिसकी आड़ में आतंकी छुपते हैं और फिर उन्ही लोगों को बंधक बनाने के नाम पर सुरक्षा बलों के अंदर आते ही हमला बोल देते हैं. जिसमें सेना को नुकसान झेलना पड़ता हैं.

Previous articleशर्मनाक घटना: दादी ने ली पोते की जान – ये थी वजह
Next articleहरियाणा में कोरोना के 548/256 मामले – खानपुर PGI के 4 कर्मचारी मिले पॉजिटिव