3 महीनों से रूकी है कोरोना योद्धाओं की तनख्वाह

181

कोरोना काल में अपनी सेवाएँ पुलिस और स्वास्थ्य विभाग ही दे रहा हैं। स्वास्थ्य कर्मचारियों को कोरोना योद्धा कहकर सम्बोधित किया जाता हैं। मगर इनके सर पर भी अब संकट के बदल मंडराएँ हुए हैं। बता दें कि CM सिटी करनाल के कोरोना योद्धाओं को 3 महीने से तनख़्वाह नहीं मिली हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कल्पना चावला मेडिकल हॉस्पिटल के मेडिकल स्टाफ पिछले 3 महीनों से सैलरी नहीं मिली हैं। जिसकी वजह से सारा स्टाफ़ परेशान हैं।

आपको बता दें कि इस कोरोना काल में आमजन की देखभाल में यही महिला कर्मचारी फ्रंट लाइनर्स बनकर जुटी हुई हैं। इसके साथ-साथ कई बार इनमें से एकाध स्टाफ भी कोरोना की चपेट में आ जाता है, लेकिन इन सब चिंताओं को छोड़ ये कर्मचारी महिलाएँ मरीजों की देखभाल करने में जुटी होती हैं। यह सभी स्वास्थ्य कर्मी करनाल के कल्पना चावला मेडिकल हॉस्पिटल में काम करते हैं व अपनी आवाज चंडीगढ़ में बैठे अधिकारियों और सरकार के मंत्रियों तक पहुंचाना चाहते हैं।

इन स्वास्थ्य कर्मियों का कहना है कि उनका भी परिवार है, उन्हें भी घर चलाना होता है और अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर इस समय वो काम कर रही हैं, लेकिन उनकी मेहनत की सैलरी पिछले 3 महीनों से उनके खाते में नहीं पहुंची है। संसार क्रान्ति समूह भी सरकार व अधिकारियों से अपील करता हैं की उनकी आवाज़ को सुना जाए व उनकी सेलरी उनके खाते में डाली जाए।

Previous articleहरियाणा के इन 9 जिलों में वीकेंड लॉकडाउन – देखे ऑर्डर
Next articleकोरोना मरीजों के लिए संजीवनी – हरियाणा को उड़ीसा से मिली 107 टन ऑक्सीजन