धारा 144 लागू हैं – फिर भी नहीं समझ रहा मुस्लिम समाज

151

संसार क्रान्ति: पूरे भारत में लॉकडाउन हैं, धारा 144 भी लागू हैं. धारा 144 तब लागू की जाती हैं जब देश पर कोई आपात स्थिति हो. ऐसे में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो मुस्लिम समाज को बदनाम करने में जुटे हुए हैं. मामला उत्तर प्रदेश का हैं जहां एक मस्जिद में मौलवी 50-60 लोगों को एक साथ नमाज पढ़ा रहा था. आज इसी के चलते मक्का का मस्जिद भी 14 अपैल तक बंद कर दिया गया हैं.

सोचने की बात हैं की देश कि रेल कभी विश्वयुद्ध में भी बंद नहीं हुई और अब बंद हैं, मतलब संकट भारी हैं. हमारा उद्देश्य किसी धर्म या जाति को टार्गेट करना कतई नहीं हैं. मगर बात को समझिए की कुछ लोगों के कारण देश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाएँ जा रहें हैं. ऐसे में अगर पुलिस लाठीचार्ज करती हैं तो उसे धर्म का दुश्मन बताया जाता हैं. जबकि गलत वो लोग हैं को केंद्र और राज्य सरकारों के कहने के बावजूद भी एक साथ निकल पड़ते हैं.

लखनऊ ईदगाह का इमाम खालिद रशीद फिरंगी महली ने 19 मार्च को न्यूज एजेन्सी ANI को कहा की हमने मुसलमानों को नमाज के लिए बड़ी मस्जिदों में जाने से बचने के लिए एक सलाह दी है. और बेहतर रहेगा की लोग अपने घरों में विशेष रूप से शुक्रवार को नमाज अदा करते हैं. इस दौरान किसी भी मस्जिद में कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जाना चाहिए.

संसार क्रान्ति समूह भी मुस्लिम समाज के भाई-बहनों से अपील करता हैं की नमाज घर पर ही पढ़ें. आपको कोई गलत नहीं रोक रहा हैं. कृपया देश पर पड़ी इस मुसीबत की घड़ी में देश का साथ दें.

Previous articleपब्लिक डिमांड पर टीवी पर दिखेगी ‘रामायण’
Next articleकोरोना के लिए भारतीय रेल तैयार – ट्रेन के बनाया आइसोलेशन कोच