पूरा हरियाणा राज्य होना चाहिए लॉकडाउन – जानिए वजह

168

संसार क्रान्ति: चाइना के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरस अब भारत में भी अपने पैर जमा चुका हैं. प्रतिदिन कोरोना से संक्रमित कोई ना कोई मरीज सामने आ रहा हैं. ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी ने 22 मार्च को ‘जनता कर्फ़्यू’ की अपील की थी जिसके बाद जनता ने PM की बात को मानकर पूरा सहयोग दिया.

आपको बता दें की यह लड़ाई अब खत्म नहीं हुई हैं. इसके लिए अभी जागरूकता जरुरी हैं. हरियाणा में अब तक केवल 7 जिले लॉकडाउन किए गये हैं. मगर इस भयंकर बीमारी से बचने के लिए पूरे राज्य को लॉकडाउन कर देना चाहिए (यह हमारी राय हैं). आज हम आपको इसका पूरा प्रॉसेस बताते हैं की यह फैलता कैसे हैं. सबसे पहली बात यह वायरस भारत का नहीं हैं मतलब बाहर से देशों से भारत में दाखिल हुआ हैं. सबसे पहले अपने उन करीबी रिश्तेदारों व दोस्तों से दूरी बनाएँ जोकी हालहि में किसी दूसरे देश से भारत आए हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोना का असर 5 दिनों में शुरू होता हैं.

सबसे पहले मरीज को बुखार महसूस होगा. उसके बाद सुखी खांसी और गले में खराश. और एक हफ्ते बाद साँस लेने में परेशानी जिसके बाद मरीज को अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ता हैं. कोरोना छूने से फैलता हैं. मान लीजिए मुझे कोरोना हैं और मुझे छींक आयी. अगर मैंने मुँह के आगे रूमाल या टिशू नहीं लगाया तो छींक से निकले हुए कण वायरस फैलायेंगे. मान लीजिए मेरे छींक के कण दरवाजे के किसी हैंडल पर गिरे और थोड़ी देर बाद उस हैंडल को मेरे परिवार का कोई सदस्य छूता हैं तो वह भी कोरोना संक्रमित हो जाएगा.

कोरोना की जाँच करें घर पर, वाईरल खबर का सच ?

सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही खबर में कहा गया हैं कि आपको कोरोना हैं या नहीं इसकी जाँच करने के लिए अपनी साँस भर कर रोके. अब यह देखे की आप कितने ज़्यादा समय तक अपनी साँस रोक सकते हो. नोर्मल व्यक्ति 30-35 सेकेंड अपनी साँस रोक सकता हैं. अगर आप 5-10 सेकेंड से ज़्यादा साँस नहीं रोक पा रहें हैं की अपने नज़दीकी डॉक्टर से सलाह लें.

मगर स्नोपेस की एक रिपोर्ट के अनुसार. जब इंसानी फेफड़ों की क्षमता कम हो जाती है. तो सांस को रोकना मुश्किल होता है. दूसरा इस धारणा का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि 10 सेकंड तक सांस रोकने से स्वास्थ्य संबंधी किसी खतरे का पता चल सकें. एक्सपर्ट्स यह मानते हैं कि कोरोना वायरस पल्मोनरी फाइब्रोसिस (pulmonary fibrosis) का कारण बनता है.

Previous articleबड़ी खबर: हरियाणा के 7 जिले 31 मार्च तक लॉकडाउन
Next articleकल से पूरा हरियाणा बंद – जारी रहेगी ये सुविधाएँ