ये 10 सरकारी बैंक होंगे मर्ज – रह जाएँगे 4 बैंक

267

दस सरकारी बैंक कल से यानी 1 अप्रैल से चार बैंकों में मर्ज कर दिए जाएँगे. अगस्त 2019 में सरकार ने 10 सार्वजनिक क्षेत्र के उधारदाताओं को चार बड़े और मजबूत बैंकों में विलय की घोषणा की थी. आपको बता दें की 2017 में सरकारी बैंकों की सख्य 27 से घटकर 12 हो गयी थी. 1 अप्रैल से यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया तथा ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स का विलय पंजाब नैशनल बैंक में हो जाएगा. इस विलय के बाद पंजाब नैशनल बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा.

10 बैंकों का होगा विलय

इन 10 बैंकों में यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया तथा ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स का विलय पंजाब नैशनल बैंक में होगा. सिंडिकेट बैंक का विलय केनरा बैंक में किया जाएगा. आंध्रा बैंक तथा कॉरपोरेशन बैंक को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में विलय किया जाएगा. इलाहाबाद बैंक को इंडियन बैंक में विलय किया जाना है. इसको लेकर PNB Bank ने कहा हैं की ग्राहकों को घबराने की कोई जरूरत नहीं हैं यह तीनों बैंक बेहतर, बड़े व मजबूत होने के लिए एक साथ आ रहे हैं.

बैंकों का आपस में विलय होने पर ग्राहकों को नया अकाउंट नम्बर मिल सकता है. नई चेकबुक तथा नया ATM हो सकता हैं जारी. फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) या रेकरिंग डिपॉजिट (आरडी) पर मिलने वाले ब्याज में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा. जिन लोगों ने ब्याज पर व्हीकल लोन, होम लोन, पर्सनल लोन आदि लिए हैं, उनमें कोई बदलाव नहीं होगा.

Previous articleरोहतक के छोरे ने दान किए 1 करोड़ रुपए
Next articleभगौड़ा भारत आने के लिए बेताब – बोला सारे पैसे दे दूँगा