PUBG और ZOOM ऐप क्यों नहीं हुए बैन – जानिए इनके पीछे का राज

177

नई दिल्ली: बीते दिनों भारतीय सरकार ने टिक-टॉक समेत 59 चीनी एप्लीकेशनस को भारत में बैन कर दिया. इसके पीछे का कारण भारतियों सुरक्षा अजेंसियो ने यह बताया कि इन एप्स की मदद से यूजर्स का पर्सनल डाटा अन्य देशों को भेजा जा रहा था जिसके कारण यह एप्स देश के लिए खतरा बन चुकी थी. इसलिए इन सभी एप्स को पूरी तरह से भारत में रोक दिया गया. हालाँकि बहुत सरे लोगों ने सरकार के इस फैसले के बाद सोशल मीडिया पर यह सवाल खड़ा कर दिया कि आखिर ट्विटर, PUBG और ज़ूम एप को प्रतिबंधित क्यों नहीं किया जा रहा. तो यदि आपके मन में भी यह सवाल है तो यह खास पोस्ट केवल आपके लिए ही है. यहाँ हम आपको बता रहे हैं कि आखिर वह कौन सी वजह थी जिसके चलते इन एप्स को बैन नहीं किया जा रहा.

चीनी नहीं बल्कि कोरियाई गेम है PUBG

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि देशभर में पिछले दो सालों से PUBG काफी ट्रेंडिंग रही है. यह एक ऑनलाइन मोबाइल व पीसी गेम है जिसे ब्लुवेहल की सहायक कंपनी ने बनाया है. ब्रेनडन द्वरा बनाई गई यह गेम साल 2000 की जापानी फिल्म “Battle Royal” से आईडिया लेकर बनाई थी. आप में से अधिकतर लोग यह सोचते हैं कि यह गेम चीन द्वारा बनाई गई है. लेकिन सच्चाई कुछ और ही है. दरअसल, PUBG चीनी नहीं बल्कि कोरियाई गेम है इसलिए इसको चीनी एप्स के साथ बैन लिस्ट में नहीं डाला गया है. बता दें कि सोशल मीडिया पर PUBG को चायनीज ऐप कहा जा रहा हैं जोकी एक गलत जानकारी हैं.

चीन ने नहीं बनाई Zoom एप

ज़ूम एप एक बेहतरीन एप मानी गई है. इसको बनाने वाली कंपनी चीनी नहीं बल्कि अमरीकी है. इसका हार्डवेयर कैलफोर्निया राज्य के सेन जोस में है. वहीँ कंपनी की एक टीम चीन में काम कर रही है. बता दें कि यह एक विडियो कांफ्रेनेसिंग एप है जोकि लॉकडाउन के बीच काफी प्रचलित हुई थी. इसकी सिक्यूरिटी को लेकर कईं प्रकार के सवाल भी उठाए गये थे लेकिन अब कंपनी इस एप में सुधार का दावा कर रही है. बता दें कि सोशल मीडिया पर ZOOM को चायनीज ऐप कहा जा रहा हैं जोकी एक गलत जानकारी हैं.

Previous article31 जुलाई तक लागू रहेगा अनलॉक -2 – जानिए क्या हैं दिशा-निर्देश
Next articleकोरोना की इस दवा का कोर्स 1.75 लाख रुपए का – कम्पनी बोली दवाई सस्ती हैं